त्रिनेत्र गणेश जी का मंदिर – विश्व का एक मात्र मंदिर भारत के राजस्थान राज्य में स्थित

1
127
त्रिनेत्र गणेश जी का मंदिर
त्रिनेत्र गणेश जी का मंदिर

त्रिनेत्र गणेश जी का मंदिर (सवाई माधोपुर)

त्रिनेत्र गणेश जी का मंदिर रणथम्भौर दुर्ग (सवाई माधोपुर) में स्थित है। राजस्थान के सवाईमाधोपुर जिले से 12 किलोमीटर दूर रणथम्भौर दुर्ग में हजारो साल पुराना त्रिनेत्र गणेश मंदिर है। यहाँ पर स्थित गणेश जी विश्व में एक मात्र त्रिनेत्र गणेश जी है। यहाँ सिर्फ गणेश जी के मुख की पूजा की जाती है। राजस्थान के रणथंभौर में एक मंदिर ऐसा है जहां गणपति को हर शुभ काम से पहले चिट्ठी भेजकर निमंत्रण दिया जाता है। इसलिए यहां हमेशा भगवान के चरणों में चिठ्ठियों और निमंत्रण पत्रों का ढेर लगा रहता है।

गणेश मंदिर का निर्माण-

इसका निर्माण चोहान शासको ने करवाया। यहाँ प्रतिवर्ष भाद्रपद्र शुक्ल गणेश चतुर्थी को एक विशाल मेला भरता है। जो संभवत है देश का सबसे प्राचीन गणेश मेला है। इस दुर्ग के गणेश मंदिर के पूर्व में एक अज्ञात जलस्रोत है, जिसे गुप्त गंगा कहा जाता है। इस मंदिर के गर्भग्रह में गणेश जी की मूर्ति है। मूर्ति में गर्दन, हाथ, शरीर, आयुध व अन्य अवयव नही है। मूर्ति के रूप में केवल ‘मुख’ है। यहाँ पर स्थित गणेश जी विश्व में एक मात्र त्रिनेत्र गणेश जी है। अति प्राचीन परम्परा के अनुसार सभी मांगलिक कार्यो जेसे विवाह आदि पर सर्वप्रथम गणेश जी का निमत्रण देने की प्रथा है। गणेश मंदिर के सामने पदमला तालाब है जिसमे हम्मीर की पुत्री देवलदे ने कूद कर जोहर किया था।

शिव मंदिर-

मंदिर के पीछे कुछ दुरी पर प्राचीन शिव मंदिर है। कहा जाता है की अलाउदीन खिलजी से युद्ध में विजय होने के पश्चात हम्मीर ने जब अपनी रानियों के जोहर की घटना सुनी तो उन्होंने अपना सर काट कर इसी शिव मंदिर में अर्पित किया था। इस मंदिर में राजथान और हरियाणा सबसे ज्यादा भक्त गण आते है।

यह देश के कुछ उन मंदिरों में से है जहां भगवान के नाम डाक आती है। देश के कई लोग अपने घर में होने वाले हर मंगल कार्य का पहला कार्ड यहां भगवान गणेश के नाम भेजते हैं। कार्ड पर पता लिखा जाता है-‘श्री गणेश जी, रणथंभौर का किला, जिला- सवाई माधौपुर। डाकिया भी इन चिट्ठियों को पूरी श्रद्धा और सम्मान से मंदिर में पहुंचा देता है।

इसके बाद पुजारी चिट्ठियों को भगवान गणेश के सामने पढ़कर उनके चरणों में रख देते हैं। मान्याता है कि इस मंदिर में भगवान गणेश को निमंत्रण भेजने से सारे काम अच्छी तरह पूरे हो जाते हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here