रक्षाबंधन 2018: भारत के विभिन्न राज्यों में राखी का त्यौहार मनाने के तरीके

0
182
रक्षाबंधन 2018: भारत के विभिन्न राज्यों में राखी का त्यौहार मनाने के तरीके
रक्षाबंधन 2018: भारत के विभिन्न राज्यों में राखी का त्यौहार मनाने के तरीके
- Advertisement -
- Advertisement -

‘रक्षाबंधन’ में बांधने का भाव है लेकिन यह रक्षासूत्र किसी को वचन, विचारो और जिम्मेदारियों से बांधने का नहीं है। रिश्ते बांधने से नहीं टिकते बल्कि आजादी, आपसी समझ और सम्मान से इनकी नींव मजबूत होती है।

राखी केवल भाई बहनो का ही त्यौहार नहीं बल्कि यह कही मछुआरों का त्यौहार है तो कहीं नई शुरुआत का। देश में विभिन्न तरीको से मनाई जाने वाली राखी पर एक नजर-

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तरप्रदेश-

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तरप्रदेश के कुछ स्थानों में वह दिन कजरी पूर्णिमा के नाम से मनाया जाता है। पूर्णिमा के दिन माएं जौ को सिर पर रख यात्रा निकालती है और तालाब या नदी में इसका विसर्जन किया जाता है।

महाराष्ट्र-

महाराष्ट्र में राखी के साथ नारली पूर्णिमा मनाई जाती है। राज्य के कोली समुदाय द्वारा समुन्द्र देवता को नारियल अर्पित किए जाते है। इसी के साथ मछली पकड़ने की शुरुवात भी होती है।

गुजरात-

गुजरात में इस दिन शिव भगवान की पूजा की जाती है जिसे पवित्रोपना त्योहार कहा जाता है।

उड़ीसा-

उड़ीसा में इसे गम्हा पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है जिसमे घरेलू गाय-बैलो को सजाकर उनकी पूजा की जाती है।

तमिलनाडू, केरल, आंध्रप्रदेश-

तमिलनाडू, केरल, आंध्रप्रदेश क्षेत्र में यह दिन अपनी अवित्त्म और उपाकर्म के रूप में मनाया जाता है। यह दिन वैदिक पाठ शुरू करने के लिए उत्तम माना जाता है।

नेपाल-

नेपाल में राखी जनै पूर्णिमा के नाम से मनाई जाती है। इस दिन नेवार समुदाय के लोग मेंढ़को को खाना देते है। मान्यताओ के अनुसार उन्हें वर्षा देवता का सन्देशवाहक माना जाता है।

उत्तरांखड-

उत्तरांखड के चंपावत जिले के देवीधुरा गावं में हर साल राखी पर ‘बग्वाल’ मेले का आयोजन किया जाता है। वाराही देवी मंदिर के प्रांगण में स्थानीय जनजातियो द्वारा पत्थरो से युद्ध खेला जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here