9 ऐसे मंदिर जहाँ आज भी किया जाता है तंत्र-मंत्र , जाने से डरते है लोग

1
482

भारत में तंत्र विध्या का प्रयोग प्राचीन समय से हो रहा है इस विध्या का उल्लेख प्राचीन इतिहास में भी मिलता है। वेदों में इसका वर्णन विस्तार पूर्वक मिलता है।

भारत में आज भी कई ऐसे मंदिर है जिनमे तंत्र-मंत्र का उपयोग किया जाता है और लोग वहाँ जाने से डरते है।

ये मंदिर इस प्रकार है:

1. वेताल मंदिर (ओड़िसा)

वेताल मंदिर

यह मंदिर 8 वी सदी में भुवनेश्वर में बना था, इस मंदिर में माता बलशाली चामुंडा देवी की मूर्ति विराजमान है ये माता काली का ही एक रूप है। इस मंदिर में तांत्रिक क्रियाये हमेशा से ही चली आ रही है जिससे यहाँ लोग का कम ही आना जाना होता है।

2. बैजनाथ मंदिर (हिमाचल प्रदेश)

बैजनाथ टेम्पल

यह मंदिर शिव के वैधनाथ लिंग के लिए विश्व विख्यात है इस मंदिर में तंत्र विद्या का उपयोग बड़ी मात्रा में होता है इस मंदिर का पानी अपनी पाचन शक्तियों के लिए सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है।

3. कालीघाट मंदिर (कोलकाता)

कालीघाट टेम्पल

कोलकाता का कालीघाट अपने आप में ही तांत्रिक क्रियाओ के लिए बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है इसलिए यहाँ तांत्रिक क्रियाये करने वालो का सालभर आना जाना लगा रहता है। यहाँ ऐसा कहा जाता है की माता सती की उंगलिया गिरी थी।

4. कामख्या मंदिर (असम)

kamakhya temple

असम का यह मंदिर तंत्र विद्या का गढ़ मन जाता है यहाँ तांत्रिक विध्याये करने वाले समुदाय की संख्या ज्यादा है। पौराणिक कथाओ के अनुसार यहाँ माता सती का योनि भाग गिरा था।

एक ऐसा मंदिर जहाँ होती है महादेव के पैर के अंगूठे की पूजा

5. खजुराहों मंदिर (मध्य प्रदेश)

खजुराहो मंदिर

यह मंदिर अपनी कलात्मक रचना और कामुक रूपी मूर्तियों के लिए प्रसिद्ध है लेकिन कम ही लोगो को पता होता है की यहाँ तांत्रिक गतिविधिया भी काफी होती है।

6. ज्वालादेवी मंदिर (हिमाचल प्रदेश)

jwala devi temple

इस ज्वालादेवी मंदिर में एक ऐसा कुंद है जिसका पानी दिखने में तो उबलता हुआ नजर आता है मगर छुने पर एक दम ठंडा होता है इस मंदिर में भी तांत्रिक क्रियाये काफी प्रचलित है।

भारत का एक ऐसा मंदिर जहाँ महीने के तीन दिन पूजा नहीं होती है।

7. काल भैरव मंदिर (उज्जैन)

Kaal Bhairav Temple

काल भैरव का यह मंदिर जो की मध्य प्रदेश के उज्जैन में उपस्थित है अपनी तांत्रिक क्रियाओ के लिए बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध है इस मंदिर में भगवान भैरव की श्यामा मूर्ति राखी हुई है। इस मंदिर में तांत्रिक और अघोरियो का आना जाना लगा ही रहता है।

8. महेंदिपुर बालाजी मंदिर (राजस्थान)

मेहन्दीपुर बालाजी

राजस्थान के बालाजी (सिकंदरा के पास एक जगह) में महेंदिपुर बालाजी का मंदिर है यह मंदिर बहुत ही ज्यादा पवित्र मंदिर है यहाँ पर आये पीडितो पर से झाड़-फुक करके भुत-प्रेतों को उतारा जाता है यहाँ हमेशा तांत्रिक क्रियाये हमेशा सक्रिय रहती है। यहाँ मंगलवार और शनिवार को लोगो का ताँता लगा ही रहता है।

9. एकलिंग मंदिर (राजस्थान)

एकलिंग मंदिर

भगवान शिव का यह मंदिर जो की एकलिंग के रूप में प्रसिद्ध है राजस्थान के उदयपुर के पास स्थित है। यहाँ महादेव की चार मुखी यानि की चौमुखी और बहुत ही सुन्दर मूर्ति विराजमान है जो की काले संगमरमर से बनी है। इस मंदिर में भी रात के समय तांत्रिक क्रियाये जोरो पर होती है इसलिए रात में लोग इस मंदिर में कम जाना पसंद करते है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here