Heart Line and Marriage Line का रहस्य – हस्त रेखा का ज्ञान

0
574
heart line
- Advertisement -

Heart Line and Marriage Line Mystery:

- Advertisement -

ह्रदय रेखा बुध पर्वत से शुरू होकर गुरु पर्वत और शनि पर्वत के बीच जाकर समाप्त होती हैं। ह्दय रेखा के पास में ही विवाह रेखा स्थित होती हैं। हथेली पर हृदय रेखा तर्जनी और मध्यमा के बीच से शुरु होकर हथेली के दूसरे छोर तक जाती है। कई जातकों की हथेली पर यह रेखा तर्जनी के निचले हिस्से से शुरु होती है तो कई जातकों की हथेली पर यह रेखा बेहद छोटी भी होती है।

यदि ह्दय रेखा बुध पर्वत से शुरू होकर गुरु पर्वत के बीच में ख़त्म होती है तो व्यक्ति अच्छे स्वाभाव वाला,दूसरों का हित करने वाला होता हैं। उसकी स्पष्ट विचारधारा होती हैं। यदि ह्दय रेखा बुध पर्वत से शुरू होकर गुरु और शनि के बीच में जाकर समाप्त हो तो ऐसा व्यक्ति कठोर व्यक्तित्व के स्वाभाव का होता हैं। ऐसा व्यक्ति सिर्फ अपने बारे में ही सोचता हैं। इस प्रकार का व्यक्ति स्वार्थी कहा जा सकता हैं। इस प्रकार के व्यक्ति काफी मेहनत करने वाले होते हैं। ऐसे व्यक्ति पर कभी विश्वास नहीं करना चाहिए जिनकी रेखा बुध पर्वत से शुरू होकर शनि पर्वत पर ख़त्म होती हैं। अगर किसी व्यक्ति की रेखा सूर्य पर्वत पर जाके समाप्त होती है तो ऐसा व्यक्ति बहुत यशस्वी होता हैं। वे बहुत कठोर स्वाभाव के होते हैं। अगर किसी व्यक्ति की ह्दय रखा टूट सी रही है या लहरदार है तो ऐसा व्यक्ति ह्दय से परेशान रहने वाला या हद्रय रोगी होता हैं। ह्दय रेखा से कोई रेखा यदि नीचे की तरफ आती है तो ये ह्दय रेखा की कमजोरी को दर्शाती हैं। जब हृदय रेखा बेरंग या व्यापक हो तो व्यक्ति अपने चारों ओर हो रही गतिविधियों के प्रति वह उदासीन रहता है। जब हृदय रेखा विभाजित हो और उसकी एक शाखा गुरु पर्वत पर और दूसरी तर्जनी और मध्यमा उंगली के बीच हो तो यह रिश्ते मे खुशी और द्वंद को दर्शाती है। जब हृदय रेखा उपस्थित हो लेकिन समय बीतने के साथ धुधंली पड़ गयी हो, यह दर्शाता है कि व्यक्ति को प्रेम मे भयानक निराशा का अनुभव होगा और इसलिए वह हृदयहीन और उदासीन बन जाता है।

ह्दय रेखा के समीप विवाह रेखा होती हैं। दोनों हाथो में इस विवाह रेखा को देखना चाहिए। विवाह रेखा एक या एक से अधिक हो सकती हैं। विवाह रेखा बुध पर्वत स्थान पर होती हैं। जो रेखा स्पष्ट बड़ी हो वही रेखा विवाह रेखा मानी जाती है, दूसरी रेखा प्रेम प्रसंग हो सकती हैं। विवाह रेखा ह्दय रेखा से जीतनी नजदीक होती है उस व्यक्ति की शादी उतनी ही जल्दी होती हैं। यह रेखा साफ़ और स्पष्ट होनी चाहिए। टूटी व लहरदार होने पर विवाह में परेशानी होती हैं। यदि कोई रेखा सूर्य पर्वत से निकल के मंगल पर्वत पे आ रहे है तो उस व्यक्ति का प्रेम विवाह हो सकता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here