प्राचीन समय का Kailash Mahadev Temple तथा इससे जुड़ा रहस्य

0
380
kailash Mhadev temple
- Advertisement -

Kailash Mahadev Temple Mysterious:

- Advertisement -

हमारे प्राचीन समय में कई अविष्कार हुए जो लुप्त हो गए। लेकिन इस बात से कोई इंकार नहीं करता की उस समय की science अतिविकसित थी। आज हम बताने वाले है एक ऐसा ही shiv temple जिसे देखकर scientist भी हैरान हैं। क्योकि ऐसा कुछ बनाना तो आज की विकसित science के भी परे हैं। यह मंदिर औरंगाबाद महाराष्ट्र में स्थित हैं। और इसे कहते है Kailash Temple इस temple ने वैज्ञानिकों को इस कदर हैरान कर रखा हैं। कुछ scientist इसे 1900 साल पुराना मानते हैं। और कुछ तो 6000 साल से भी ज्यादा पुराना मानते हैं।

सबसे ज्यादा हैरानी वाली बात तो ये है कि इसे ईटो और पथरो से जोड़ के नहीं बनाया गया। बल्कि केवल एक चट्टान को काटकर बनाया गया हैं। इसलिए इसे कब बनाया गया इसका जवाब देना असंभव हैं। क्योकि इसमें ऐसी कोई भी चीज का इस्तेमाल नहीं किया गया जिससे पता चल सके कि इसे कब बनाया गया।

यहाँ पर ऐसा माना जाता है कि इसे बनाने में लगभग 18 साल का समय लगा। लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है की इस 100 फुट ऊंचे temple को आज की तकनीक से भी 18 साल में बनाना असंभव हैं। इस temple को ऊपर से नीचे बनाया गया हैं। temple Alora की गुफ़ा संख्या 16 में स्थित है। इस temple में कैलास पर्वत की अनुकृति निर्मित की गई है।

Alora में तीन प्रकार की गुफ़ाएँ हैं:

1. महायानी बौद्ध गुफ़ाएँ

2. पौराणिक हिंदू गुफ़ाएँ

3. दिगंबर जैन गुफ़ाएँ

alora caves

इन गुफ़ाओं में केवल एक गुफ़ा 12 मंजिली है, जिसे ‘Kailash Temple’ कहा जाता है। temple का निर्माण राष्ट्रकूट शासक कृष्ण प्रथम ने करवया था। यह गुफ़ा शिल्प कला का अद्भुत नमूना है। एक ही चट्टान में काट कर बनाए गए विशाल temple की प्रत्येक मूर्ति का शिल्प उच्च कोटि का है। इन गुफ़ाओं से एक किलोमीटर की दूरी पर alora village है। इसी village के नाम पर ये ‘एलोरा गुफ़ाएँ’ कहलाती हैं।

alora की मूर्तिकला अनुपम है। गुप्त काल के बाद इतना भव्य निर्माण और किसी काल खंड में नहीं हुआ। alora की गुफ़ाओं का सीधा संबंध बौद्ध, हिन्दू और जैन धर्म से है, इसलिए इन धर्मों के अनुयायियों की यहाँ भीड़ लगी रहती है। इसके अतिरिक्त देशी-विदेशी पर्यटकों की भी यहाँ पूरे साल चहल-पहल रहती है। इन गुफ़ाओं में इतना आकर्षण और कौशल है कि यहाँ आने वाले सभी पर्यटक इन्हें देखकर चकित हो उठते हैं। पूरा क्षेत्र बहुत खुला और शांत है। एलोरा के पास ही ‘Grishneshwar Mahadev’ का temple है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here